Full width home advertisement

Chhath Puja

Chhath Geet

Post Page Advertisement [Top]

पुत्रहीन स्त्री का छठी माता से पुत्र मांगना


मलहोरिन बिटिया निम्बू लेई आव , सरीफा लेई आव
आरे कब रे उगिहे अदितमल , अरघ दियाई
ए छठी मईया करबी राउर सेवा ,करबी राउर सेवा
हमरो के आजू ए छठी मईया , दिहिना रउरा मेवा
बुढ़िया मांगे नाती , तरुनिया मांगे बेटा
बिटिया जे मांगेले , भाई रे भतीजा

कोई स्त्री छठी माता का व्रत करते समय माली की लड़की से कह रही है की तुम निम्बू और शरीफा लेकर आओ जिससे मै सूर्य नारायण को अर्घ्यदान दे सकू
सूर्य कब उगेंगे और अर्घ्य कब दिया जायेगा .

ए छठी मईया मै आपकी सेवा करुँगी . आज आप इसके फलस्वरूप मुझे मेवा खाने को दीजिये अर्थात मुझे आशीर्वाद तथा वरदान दीजिये . बूढ़ी स्त्रियाँ अपने लिए नाती मांग रही है . युवती स्त्रियाँ पुत्र मांग रही है और जो छोटी लड़कियां है वो अपने लिए भाई और भतीजा मांग रही है

No comments:

Post a Comment

Bottom Ad [Post Page]